Squalane फेसिअल ऑयल के फायदे || Squalane Uses of squalane for face-hindi

Squalane फेसिअल ऑयल के फायदे || Squalane Uses of squalane for face-hindi

Squalene एक लिपिड यानी की वसा/प्राकृतिक तेल है जो हमारे शरीर में त्वचा में त्वचा के कोशों द्वारा बनता है,और तैल ग्रंथि(sebesious gland) मैं (sebum) में मौजूद होता है।

Squalane फेसिअल ऑयल के फायदे || Squalane Uses of squalane for face-hindi
Squalane फेसिअल ऑयल के फायदे

ये एक अच्छा एमोलिएन्ट है, जो हमारी त्वचा का लचीलापन बरकरार रखता है, और त्वचा को कुदरती रूप से मॉइस्चराइज रखता है और एक बेस्ट एन्टी ऑक्सीडेंट है।

इस तरह ये त्वचा की सुंदरता को बरकरार रखता है।हमारे शरीर मे squalene की मात्रा लगभग 13% होती है।

मगर जैसे जैसे उम्र बढ़ती है 20-25 की आयु के बाद squalene का उत्पादन शरीर में दिन ब दिन कम होते जाता है।और त्वचा चमक,और लचीलापन और नमी खोने लगती जिससे त्वचा डल और बेजान,झुर्रियों वाली होने लगती है।

Squalene त्वाचा के प्रोटेक्टिव बैरियर को बरकरार रखता है,जिससे त्वचा को इन्फेक्शन, इर्रिटेशन से बचाता है, और नमी को बरकरार रखके त्वचा की एजिंग को रोकता है।

ये जानवर से यानी कि एनिमल बेस्ड-मछ्ली के लिवर यानी कि शार्क के लिवर मैं भी पाया जाता है,और ये प्लांट बेस्ड- पेड़ पौधे जैसे,राइस ब्रान,पाम आयल,ओलिव आयल और गन्ने में भी पाया जाता है।

पर्यावरण और शार्क जाती के बचाव के लिए हमे हमेशा प्लांट बेस्ड squalene (स्कवेलीन) को चुनना चाहिए। मगर प्लांट बेस्ड और एनिमल से जो squalene पाया जाता है वो unstable यानीकी अस्थायी होता ,ये जल्दी ही ऑक्सीडाइस होता है ये धूप UVA,और UVB रेडिएशन से,सिगार के धुऐं से,प्रदूषित हवा से ऑक्सीडाइस होकर अपनी असर्कारकता खो देता है।

Squal-a-n-e और aqual-e-n-e बीच क्या फर्क है?

Squa-l-a-n-e,squl-e-n-e का ही डेरिवेटिव है,मतलब,इसपे  हायड्रोजनेशन की प्रक्रिया करके सैच्युरेटेड और स्टेबल यानी की स्थायी बनाया जाता है जिससे ये जल्द ऑक्सीडाइस नही होता, ज्यादा स्किन फ्रेंडली बनता है,और इसके गुण लंबे से बरकरार रहते है,यानिकि  इसकी सेल्फ लाइफ बढ़ जाती है।

और जब आप इसे मार्किट में ख़रीदते हो तब squalane ( squal-a-n-e) के रूप में हमें सीरम,मॉइस्चराइजर मैं ओवर ध काउंटर मिलता है।

Squalane फेसिअल ऑयल के फायदे

1)ड्राई स्किन के लिए Squalane :

ये एक उत्तम एमोलिएन्ट है,इसमे मॉइस्चराइज़िंग प्रोपर्टीज है, ये त्वचा में एक स्ट्रांग बेरियर बनाता है,जीससे त्वचा ज्यादा तरोताजा,और स्वस्थ नज़र आती है।

खासकर सुखी ,रफ त्वाच्च के लिए ज्यादा असरदार होता है ये चहेरे पे,कोहनी,गुठनों जैसी मोटी, सुखी त्वचा को मुलायम,और चमकीली बनाने मैं बेहतरीन रिजल्ट देता है।ई तरह ये ड्राई स्किन वालों के लिए एक उत्तम पर्याय है।

2)Squalene फ़ॉर ड्राई और सेंसिटिव व प्रोब्लेमटिक स्किन: इसमें एन्टी- इन्फ्लामेट्री प्रोपर्टीज होने से एक्जिमा वाले भी यूज़ कर सकते है और कई प्रकार के इन्फ्लामेट्री स्किन प्रॉब्लम्स के लिए भी एक उत्तम पर्याय है। जैसे कि- डर्मेटाइटिस, रोजेसिया, सोरायसिस, एक्ज़ीमा, इन्फ्लामेट्री एक्ने, इन सब स्किन प्रोब्लेम्स की वजह ड्राई स्किन होती है ,इसलिए त्वचा को हायड्रेटेड, रखने से मॉइस्चर लेवल बढ़ता है,और जिससे होने वाली ये सारी तकलीफें अपने आप कम हो जाती है।

2)Squalene फ़ॉर ऑयली एक्ने प्रोन स्किन:-

हालांकि ये ऑयल है,मगर ये काफी पतला त्वचा के कोशों में बनने वाले नैचरल आयल जैसा ही है,और नॉन कोमेडोजेनिक होने से पोर्स को अवरुद्ध नहीं करता है।

आम आयल जो हैवी होते है उससे ये काफी लाइट वेट है इस वजह से ये ऑयली स्किन वाले भी यूज़ कर सकते है।

3)इसमें एन्टी इन्फ्लामेट्री प्रोपर्टीज भी है,ये रेडनेस,स्वेल्लिंग,और इर्रिटेशन को कम करता है,बैक्टेरिया, औऱ डेड स्किन सेल्स को साफ करता है।

4)इसमें एन्टी ओक्सीडेन्ट है जिससे ये फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान जैसे डार्क स्पॉट्स,पिगमेंटेशन, फ़ोटो एजिंग से हमे बचाता है।

5)साथ मैं इसमें एंटीबैक्टीरियल प्रोपर्टीज भी होने की वजह से, लोग इसे लोग सिर की त्वचा पे भी लगाते है।

आवधानियाँ/साइड इफेक्ट्स :-

हालांकि असल मैैं येे प्रोड्क्ट सभी के लिए सेफ होने के वावजूद भी कोई भी स्किन केअर प्रोडक्ट्स का एलर्जिक रिऐक्शन और इर्रिटेशनहो सकता है,इस लिए हमेशा पैच टेस्ट करे,कोहनी के अंदर के बाजू में इसे लगाकर एक रात छोड़ दे अगर इर्रिटेशन,रेडनेस,ईचिंग, र स्वेल्लिंग हुई तो इसे न लगाएं।

मार्किट में squalane किस रूप में उपलब्ध है:

ये क्रीम और सीरम और आयल स्वरूप मैं मार्किट मैं उपलब्ध है। इसका सीरम स्वरूप आज कल ज्यादा प्रचलन में है,ब्यूटी एक्सपर्टस इसे स्किनकेयर मैं शामिल करने पे जोर देते है,क्योंकि ये एक उत्तम फेसिअल बैरियर आयल है जो त्वचा से वाटर लोस्स को रोकता है,

Squalane को रात को सोते वक्त चहेरे को अच्छे से धोने के बाद में मॉइस्चराइजर के बाद सीधा लगा सकते है।

और अगर लेयरिंग कर रहे हो तो

मॉर्निंग स्किन केअर में:-फेस वॉश के बाद पहले-नॉन अल्कोहलिक टोनर-विटामिन सी-सीरम-मॉइस्चराइजर-qualane सीरम -सनस्क्रीन,इस तरह से अनुक्रम मैं लगाएँ।

नाईट स्किन केअर में:क्लींजिंग के बाद-टोनर- (पेप्टाइड युक्त सीरमऑप्शनल)-रेटिनॉयड सीरम(ऑप्शनल)-विटामिन सी सीरम- मॉइस्चराइजर-और squalane इस अनुक्रम में लगाएँ।

अंत में। कुछ अच्छे squalane serums- Ordinery Minimalist Mamararth

Conclusion:

आशा है ‘Squalane फेसिअल ऑयल के फायदे’ || Squalane Uses of squalane for face ये आर्टिकल आपको अच्छा लगा होगा अगर कोई सवाल है तो जरूर कमेंट कीजिएगा,और अर्टिकल पसंद आया हो तो इसे शेयर जरूर करें।

Share this post

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *