बारिश में त्वचा की देखभाल |Skin care in rainy season hindi |

बारिश में त्वचा की देखभाल |Skin care in rainy season hindi |

हम अक्सर देखते है कि कई लोगों को बारिश की ऋतु में चहरे पर पिम्पल्स, एक्ने व शरीर के अन्य जगह पे जैसे जांघो,अंडर आर्म्स, पिठ गरदन पर खुजली,दाद त्वचा का लाल होना इत्यादि जैसी त्वचा की समस्या हो जाती है,तो इसका मुख्य कारण है, वर्षा रुतु में अक्सर हवा में नमी।तो आइए देखते है बारिश में त्वचा की देखभाल कैसे करें और ऐसी समस्याओं से कैसे छुटकारा पाएं।

बारिश में त्वचा की देखभाल |Skin care in rainy season hindi |

बारिश में होने वाली त्वचा की समस्या और देखभाल

1)दाद-खाज-खुजली की समस्या:-बारिश की ऋतु में हवा में नमी (मॉइस्चर) का प्रमाण बढ़ जाता है,जिस से हवा में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है,ऐसी अवस्था में हवा में एनरॉबिक (Anaerobes)बेक्टेरिया का प्रमाण बढ़ जाता है,और ये बेक्टेरिया शरीर में नमी वाली जगह पर पनपने लगते है।
बारिश में फंगल इन्फेक्शन से बचने के लिए क्या करें
2)एक्ने और पिम्पल्स की समस्या:-ऑयली स्किन वाले,के चेहरे पे पी-एक्ने नामक बेक्टेरिया का ग्रोथ बढ़ने से जिसको ऑलरेडी पिम्पल्स है, तो और बढ़ जाते है और नही है तो ऑयली चहरे पे एक्ने होने शुरू हो जाते है,
पिम्पल्स व एक्ने से बचने के लिए क्या करे

पिम्पल्स व एक्ने से कैसे बचें और बारिश में त्वचा की देखभाल कैसे करें:-

1)सबसे पहले अगर ऑयली स्किन है,तो सैलिसिलिक एसिड व ग्लायकॉलिक एसिड युक्त फेस वॉश से चहरे को साफ करें, कुछ फेस वॉश उदाहरण के तौर पे- ग्लायकोलिक व सेलिसिलिक एसिड युक्त फेस वॉश-
  • 1.glayaha facewash
मगर कभी बार-बार दो तीन वक्त से ज्यादा फेस वॉश से चहेरा कभी मत धोऐं वर्ना स्किन आयल ज्यादा छोड़ेगी और स्किन ओर ज्यादा ऑयली होने से एक्ने पिम्पल्स ज्यादा होंगे।

2)स्क्रबिंग की आवश्यकता

हफ्ते में एक से दो बार फेस स्क्रब से फेस अवश्य धोएं,जिससे डेड स्किन व ब्लैक हेड्स, वाइट हेड्स,धूल मिट्टी साफ हो जाने से इन्फेक्शन होने की संभावना कम हो जाती है।

3)अल्कोहोल फ्री टोनर अवश्य लगाए।

टोनर त्वचा के ph को बैलेंस करता है,और क्लींजिंग के बाद भी अगर कोई मेक-अप रेसिड्यू व गंदगी रह जाती है वो क्लीन हो जाती है,और बेक्टेरिया नहीं पनप पाते और त्वचा को हम एक्ने पिम्पल्स से बचा पाते है,ये क्रिया दिन में दो बार ऑयली स्किन वाले जरूर करे,हो सके तो टोनर के बाद फेस मिस्ट लगाएं ये त्वचा के लिए बहुत लाइट और त्वचा को पोषण प्रदान करता है।

3)स्क्रबिंग की आवश्यकता

हफ्ते में एक से दो बार फेस स्क्रब से फेस अवश्य धोएं,जिससे डेड स्किन व ब्लैक हेड्स, वाइट हेड्स,धूल मिट्टी साफ हो जाने से इन्फेक्शन होने की संभावना कम हो जाती है।

4)स्टीम ले

हफ्ते में एक से दो बार स्टीम ले जिससे चहेरे से जमी सारी गंदगी धूल और चिकनाहट डेड स्किन साफ हो जाएगी

5)लाइट मॉइस्चराइजर

हैवी क्रीम मोइस्ट्रिसर के वजाय जेल या वॉरबसेड मॉइस्चराइजर लगाएं।

6)दिन मैं सनस्क्रीन अवश्य लगाएं

7)खूब पानी पिएं, ताजे फलों और हरी सब्जियां और सलाद का सेवन करें

ओइली फ़ूड को हो सके उतना अवॉयड करें जिससे शरीर के सारे टोक्सिन फ्लश आउट हो जाएंगे शरीर अंदर से साफ होगा तो त्वचा बाहर से स्वस्थ और प्रॉब्लम फ्री रहेगी खूब सूरत त्वचा का राज अंदरूनी सफ़ाई पे निर्भर करता है।

अगर ड्राई स्कीन है तो एलोएवेरा या अच्छा जेंटल व मॉइस्चराइसिंग फेस वॉश से चहेरा धोए,हफ्ते में एक बार स्क्रबर से स्क्रब जरूर करें, रोज़ वाटर युक्त टोनर से चहेरे को टोन करें और इस मौसम में आयल फ्री लाइट मॉइस्चराइजर लगाएँ।

शरीर के अन्य हिस्से में फंगल इन्फेक्शन से बचने के लिए क्या करें:-

अब बात करते है पूरे शरीर के अन्य भाग जैसे अंडर आर्म्स,जांघ,गर्दन,जहाँ ज्यादा पसीना होता है वहाँ में नमी के कारण बेक्टेरिया पनपते है,और फंगल इन्फेक्शन होता है,तो इस जगह का ph लेवल मेंटेन रखने के लिये क्या किया जाय?

1)DIY एन्टी फंगल स्प्रे (DIY anti-fungal sprey):-

एक लीटर RO वाटर में 100 ml. वाइट विनेगर और एक टी स्पून(5 ml.) लेवेंडर एसेंशियल आयल,और 5 ml. जुनिपर बेरी एसेंशियल (juniper berry essential oil)मिला कर अच्छे से मिला कर एक जार में भर कर रख दे,और एक छोटी सी स्प्रे बोतल में अलग से निकल कर दिन मैं एक से दो बार, हाथ पैर की उंगली के बीच,जांघ,बगल,इत्यादि जगह जहां पसीना होता है वहाँ लगाएं, जिससे वहाँ ph लेवल मेन्टेन रहता है,और सुख ने के बाद वहाँ डस्टिंग पावडर लगाएँ, और उस जगह को हमेशा सुखी रखें।जिससे ये बेक्टरीअल इंफेक्शन से बचा जा सकता है।

2)DIY एक्ने मास्क /DIY acne face mask:-

2 चम्मच ओटस मैं केले का गूदा (mashed banana)शहद यानीकी हनी डाल कर अच्छेसे मिक्स करें और इस पेस्ट को चहेरे पे लगा कर सूखने दें 20 मिनट के बाद इसे पानी से धो डालें ये मास्क एक्ने को दूर करने में काफी कारगर हैं।

3)ओइली त्वचा के लिए एन्टी ऑक्सीडेंट फेस मास्क

एक चम्मच कड़वे नीम के पत्ते का पावडर मैं 2 चम्मच दही,एक चम्मच हल्दी और एक चम्मच सैंडल वुड पावडर और एक चम्मच ऑरेंज पील पाउडर डाल के अच्छे से मिश्रण तैयार कीजिए इसे चहेरे पे लगा कर 20 मिनट सूखने दें ,सूखने के बाद गून गुने पानी से चहेरे को साफ करें,इससे चहेरे से एक्स्ट्रा आयल कंट्रोल में आएगा ,जिससे एक्ने दूर होंगे हल्दी और चंदन चहेरे पे निखार लाएगा पिगमेंटेशन भी कम होगा।

Conclusion:

आशा है ‘बारिश में त्वचा की देखभाल’ लेख अच्छा लगा होगा और अगर आप को बारिश में त्वचा की और कोई समस्या और प्रश्न है तो जरूर कमेंट कर और लेख को शेयर जरूर करें।

Share this post

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *