पिगमेंटेशन होने के कारण और इसे दूर करने के उपाय (All about Pigmentation)

पिगमेंटेशन होने के कारण और उपाय:-
पिगमेंटेशन होने के कारण और इसे दूर करने के उपाय (All about Pigmentation) सुंदर और चमकती त्वचा किसे पसंद नही?मगर जब पिगमेंटेशन से त्वचा पे काले भूरे धब्बे हो जाते है तब चहेरा बहोत बुरा लगने लगता है। पिगमेंटेशन होने के कारण कभी कभी लोग आत्म विश्वास भी खोने लगते है।तो हम देखेंगे कि ये क्यों होता है,और क्या है इसे दूर करने के उपाय (All about Pigmentation)
All about Pigmentation पिगमेंटेशन होने के कारण और उपाय (in hindi)

पिगमेंटेशन क्या है?What is pigmentation :-

हमारे शरीर में त्वचा के नीचे रंग द्रव्य होते है,जो हमारी त्वचा को रंग देते है,उसे मेलेनोसाईएट्स कहते है,जब किसी कारण वश ये मेलेनोसाईएट्स कहीं कहीं पे ज्यादा रंग (मेलानिन)बनाने लगते है,तब त्वचा के उस हिस्से पे काले ,भूरे,ब्राउन,स्पॉट्स या धब्बे होजाते है,जिसे हाइपरपिगमेंटेशन कहते है।
पिगमेंटेशन होने के कारण और इसे दूर करने के उपाय (All about Pigmentation)
हायपर पिगमेंटशन

पिगमेंटेशन के प्रकार:Types of pigmentation

पिगमेंटेशन दो प्रकार के होते है, हाइपर पीगमेंटेशन,और हाइपो पिगमेंटेशन

हाइपर पीगमेंटेशन क्या होता है।हमने ऊपर बताया इसके कारण की हम आगे चर्चा करते है।

हाइपो पिगमेंटेशन में त्वचा पे सफेद दाग होने लगते है,ये छोटे बच्चों(all about pigmentation) में पेट में कीड़ो की वजह से भी होते है,और बड़ों त्वचा में ज्यादा स्टेरॉयड वाली क्रीम लंबे समय तक लगाने से भी हो सकते है,और इसकी और वजह भी होती है।त्वचा जब रंग द्रव्य (melanin)बनाना बंध कर देती है तब भी हाइपो पिगमेंटेशन होता है।

और पढ़े हाइपो पिगमेंटेशन

पिगमेंटेशन होने के कारण :-reasons for hyper pigmentation

1) एक्ने स्कार्स:-कभी कभी एक्ने,मुहाँसे, वगेरे होने के बाद इसके दाग रह जाते हैं जो देखने मे काफी खराब लगते हैं। चिकन पॉक्स के बाद काले या सफेद धब्बे और गड्ढे हो जाते है।जिसे पोस्ट इंफ्लामेटरी पिगमेंटेशन भी कहते है।

2)लिवर की खराबी की वजह से भी चहरे ,पीठ,गर्दन पे दाग हो जाते हैं।

3)उमर बढ़ते ही कोलेजन की कमी से स्किन की इलास्टिसिटी कम हो जाती है,त्वचा पतली हो जाती हैऔर सूरज की UVA UVB किरणों से उस पे काले,ब्राउन,भूरे दाग हो जाते हैं।

4)हार्मोनल चेंज की वजह से चहरे पे झाइयाँ का होना….

5)एंटीबायोटिक्स का लंबे समय तक उपयोग करना…

6)स्ट्रेस और थायराइड का होना….

7)अनुवांशिक कारणों से भी पिगमेंटेशन हो सकता है।

8)गलत खानपान से जैसे ज्यादा जंक फूड,बासी खाना,ज्यादा तेल मसाले वाला खाना खाने से भी पिगमेंटेशन हो सकता है।

9)ज्यादा धूम्रपान,आल्कोहोल,या अतिरिक्त चाय,कॉफी के सेवन से भी यह समस्या हो सकती है।

10) गर्भ निरोधक गोलियां, या ज्यादा पेनकिलर व एंटीबायोटिक के सेवन से भी पिगमेंटेशन हो सकता है।

 

11)स्टेरॉयड क्रीमस व फेयर नेस क्रीम्स का डॉक्टर के परामर्श बिना उपयोग,

12)तीव्र सुगंध वाले परफ़्यूम, क्रीम,लोशन के उपयोग से…

13)विटामिन बी12,आयरन की कमी की वजह से….

ये सारे इसके कारण है,इन मैं से हार्मोनल इमबैलैंस का बहोत बुरा प्रभाव खास कर महिलाओं में पड़ता है।

पिगमेंटेशन होने के कारण और इसे दूर करने के उपाय:-Remedies to Remove pigmentation

1)सन स्क्रीन:-

मेलसमा ,पिगमेंटेशन, दाग धब्बे के उपाय में सबसे पहले आता है “prevention is better then cure” पिगमेंटेशन ना होवे इस लिए सबसे पहले अच्छा UVA-UVB -30 प्रोटेक्शन वाला सन स्क्रीन का उपयोग करे ,जब भी घर से बाहर निकले तो 10 मिनिट पहले सनस्क्रीन लगाए फिर ही घर से निकले। सन ग्लासेस, लंबी आस्तीन और शरीर को ढकने वाले कपड़े Kऔर हैट पहने जिसे धूप और सूरज के हानिकारक किरणों से बचा जा सके। और कूकिंग और सोना या स्टीम जैसी किसी भी प्रकार की गरमी (हीट)से बचें।

2)हाइड्रोक्विनोन,रेटिनो-A,और स्टेरॉयड के कॉम्बिशन वाला क्रीम डॉक्टर की सलाह से लगाये,ये क्रीम्स हमेशा रात के समय लगाने चाहिए, और धूप में निकल ने से पहले सनक्रीन अवश्य लगाना चाहिए,क्योंकि ये क्रीम से त्वचा धूप से ज्यादा संवेदनशील हो जाती है और पिगमेंटेशन बढ़ने की संभावना बढ़ जाती है।

3)जिस जगह पे पिगमेंटेशन है वहां ज्यादा घिसने,रगड़ने से बचे वर्ना पिगमेंट बनानेे वाली ग्रंथयाँ ज्यादा सक्रिय होने से पिगमेंटेशन बढ़ सकता है।

4)हार्श सेंटेड क्रीम्स,व परफ्यूम्स का उपयोग से बचना चाहिए,ये त्वचा को ज्यादा संवेदनशील बनाता है और त्वचा काली पड सकती है।

5)आप अच्छे से स्किन क्लिनिक मैं डॉक्टर से,केमिकल पीलिंग,माइक्रो डर्माब्रेशन, माइक्रो नीडलिंग, या लेज़र ट्रीट मेंट्स ले सकते है,ये ट्रीटमेंट्स पिगमेंटेशन,झाएयां, और मेलास्मा के उपचार मे काफी कारगर साबित होती है।

6)विटामिन सप्पलीमेंन्ट्स जैसे कि ग्लुटेथिओन, विटामिन -सी,विटामिन ई, ग्रेप सीड एक्सट्रैट,ग्रीन टी एक्सट्रैट,लायकोपिन जिसमे असरदार एन्टिओक्सीडेंटस होते है,जो स्किन के रंग को निखार ने में काफी कारगर साबित होते हैं,डॉक्टर की सलाह से ले सकते हैं।

7) ऐसी कई क्रीम्स है जो मार्किट में ओवर ध काउंटर अवेलेबल है और वे सेफ भी है,क्योंकि इसमें स्टेरॉयड और अन्य हार्मफुल केमिकल्स नही है जैसे-

Sebi glow

Mela Glow Cream

ban-a-Tan Cream

Demelan Cream

इसमे अल्फा अर्बुटेन,नियासिनेमायड,ग्लायकोलिक एसिड,लैक्टिक एसिड,और कोजिक एसिड जैसे प्रभावकारी (ईफेक्टिव) स्किन लाइटनिंग एजेंट्स होते है। क्रीम्स खास कर रात को ही लगाएं,और दिन में सुन स्क्रीन लगाना क़तई न भूले।

 

पिगमेंटेशन दूर करने के घरेलू उपाय:-

1)निम्बू और शहद का मिश्रण डार्क एरिया पे लगा के 30 मिनिट के लिए रखके चहेरा पानी से धो ले,निम्बू म विटामिन सी होता है,और ये एक ब्लिचिंग एजेंट्स है,और शहद में मॉइस्चराइज़िंग प्रॉपर्टीज होती है ,हफ्ते में दो बार लगाने से कुछ दिनों में अच्छा रिजल्ट देखने को मिलेगा।

2) कच्चे आलू की पेस्ट में थोड़ा सा शहद मिला कर थोड़ी देर मालिश करें और 10 मिनिट के बाद चहेरा धो दें।ये क्रिया हफ्ते में तीन से चार बार अवश्य करें, इससे भी पिगमेंटेशन में काफी लाभ होगा।

3)दही और हल्दी ,जिसमे दही में लेक्टिक एसिड होता है,और हल्दी में लाइटनिंग एजेंटझ होता है,और एन्टी बेक्टरीअल प्रॉपर्टीज़ भी होती है,जिस से चहेरा का रंग साफ होता है। केमिकल फ्री,सल्फ़ेट फ्री, फेस वॉश से फेस वॉश करें।

4)हमेशा अच्छी क्वालिटी के नेचरल इंग्रेडिएंट्स ,जैसे कोकोनट आयल,ओलिव ऑयल्स,आलमंड ऑयल्स,अलोएवेरा,वगेरे सीधा या इनसे बने क्रीम्स लोशन्स, अपनी स्किन केअर रूटीन में शामिल करें।

Share this post

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *